Breaking News

Doctor को Corona: सिंगरौली में स्वास्थ्य अधिकारी BMO को हुआ कोरोना, लौटे थे....

खुटार सिंगरौली| सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुटार के स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना पॉजिटिव मिला मची हड़कंप किया गया संपूर्ण लॉकडाउन।
Medical officer के साथ तीन और कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए कर्मचारी, Updated 24 News
Updated 24 News
Report Rajendra Kumar (+91 9009112115)

सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि बीएमओ ऑफिसर (block medical officer) डॉ  अभिरंजन सिंह (Dr. Abhiranjan Singh) कुछ ही दिन पहले ससुराल से लौटे थे क्वॉरेंटाइन भी हुए थे, लेकिन क्वॉरेंटाइन के अंतिम दिनों में उनका जांच नहीं हुआ था। लेकिन ठीक ढंग से उन्होंने पालन नहीं किया और अपनी जगह किसी और का नाम दे दिया। अब वे अपने ब्लॉक ऑफिस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुटार में आ पहुंचे जिससे उनके संपर्क में आने वाले अन्य कर्मचारियों को भी संक्रमण हो गया लक्षणों के द्वारा पता लगाया गया और खुटार को  लॉक किया गया।

मौके पर पहुंचे सिंगरौली एसडीएम (Singrauli SDM)

जानकारी के अनुसार सिंगरौली एसडीएम मौके पर पहुंचकर खुदार को पूरी तरह से लॉक करवाया आसपास की दुकान बंद की गई, आवागमन हद तक रोका गया और बोला गया कि घर पर ही रहे जैसा कि मोबाइल में कॉलर ट्यून बजता है। 

यह भी देखें

खुटार ब्लॉक मेडिकल में कुल 4 कोरोना पॉजिटिव मरीज होने की पुष्टि की गई है जिनको अभी तक वेरीफाई नहीं किया गया है उनकी ब्लड सैंपल की जांच नहीं हुई है।
एसडीएम और जिला अधिकारियों के द्वारा इनके बुलेट को नजदीकी कोरोना लैब सेंटर में भेजा जाएगा जिससे कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हो सके।

डॉक्टर ने किया था लापरवाही नहीं हुए क्वॉरेंटाइन

डॉ बीएमओ (BMO) एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए उत्तर प्रदेश के बलिया गए थे।  उनकी वापसी के बाद, जब डॉ और उनके परिवार बीमार थे, तो उनका कोरोना परीक्षण किया गया था, जहां डॉक्टर और उनकी पत्नी सहित दो बच्चों की रिपोर्ट सकारात्मक आई है।  बताया जा रहा है कि कार्यक्रम से लौटने के बाद डॉक्टर न केवल लोगों से मिले, बल्कि मरीजों का इलाज भी किया।  बताया जा रहा है कि प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी परिवार के भतीजे के साथ बलिया में एक तिलक कार्यक्रम में गए थे।  कोरोनावायरस को हटाने के बाद स्वास्थ्य विभाग सहित जिला प्रशासन में चिंता की रेखाएं स्पष्ट रूप से देखी जा सकती हैं।  जिले में कुल 11 सक्रिय मामले हैं।

अपनी जगह नौकरानी का दिया ब्लड सैंपल

कोरोना पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग सहित जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया कि खुद को सुरक्षित रखने से बचाने के लिए ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर ने प्रशासन से अपना यात्रा इतिहास छिपा लिया।  इतना ही नहीं, नमूने देते समय, नौकरानी ने अपनी पत्नी और बच्चों के नाम के बजाय और अपने बच्चों के नाम लिखने के बाद नमूने दिए।  लेकिन कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद जब स्वास्थ्य विभाग नौकरानी के पास पहुंचा तो पता चला कि कोरोनावायरस पॉजिटिव रिपोर्ट नौकरानी की नहीं बल्कि डॉक्टर और उसकी पत्नी और बच्चों की है।  अगर सिंगरौली जिले में कोरोना विस्फोट होता है तो अब कोई आश्चर्य नहीं होगा।  यह देखना बाकी है कि प्रशासन इस डॉक्टर की लापरवाही को लेकर क्या कार्रवाई करता है।

No comments